BannerFans.com
http://fkrt.it/JQ7mSuuuuN

atomy क्या है

उत्तरी कोरिया एटम बम से  डरा रहा है तो दक्षिण कोरिया atomy नाम कि कंपनी ले  आए है,

चलिए  बात सभसे पहले करते है atomy क्या है और भारत में ये कंपनी लीगल है या नही और वो कौन लोग है जो इसका प्रचार कर रहे है  !


1. atomy. com कंपनी कि वेबसाइट है और ये south koreia कि बताई जा रहि है

2. यह कंपनी भारत में अभी तक लीगल नही

3. इस कंपनी के पास न तो कार्य करने कि भारत में अनुमति है, न कोई प्रमाणता , न हि किसी प्रकार का लाईसेंस

4. तो भी इसे  सोशल मीडिया और घर घर जेके - इसमें मेंबर बनाया जा रहा है  ,ये लोग  और कोई नही यह एक प्रकार के लालची लोग है

#आपको बतादे , कोई भी विदेशी कंपनी भारत में काम करना चाहे तो उससे भारत सरकार नियम अनुसार register होना पड़ता है, अपने product को fssai अन्यथा ayush certify करवाना  अनिवार्य है
(ऐसे और भी बहुत सारे clauses है जिन्हें follow करना पड़ता है , जिनमें से एक भी rule atomy फॉलो नहीं कर रही


अगर आप भी किसी लालची लीडर  के बहकावे में आकर ऐसी कंपनी से जुड़ने जा रहे है तो सावधान - आपके द्वारा खाई गई दवाई से यदि किसीको side-effect होता है तो सीधा करवाई आप पर होगी, क्योंकि कंपनी का तो भारत में कोई अस्तित्व हि नहि

जय हिंद


दो मिनट की ये कहानी रौंगटे खड़े कर देगी

" केदारनाथ को क्यों कहते हैं ‘जागृत महादेव’ ?, दो मिनट की ये कहानी रौंगटे खड़े कर देगी "

एक बार एक शिव-भक्त अपने गांव से केदारनाथ धाम की यात्रा पर निकला। पहले यातायात की सुविधाएँ तो थी नहीं, वह पैदल ही निकल पड़ा। रास्ते में जो भी मिलता केदारनाथ का मार्ग पूछ लेता। मन में भगवान शिव का ध्यान करता रहता। चलते चलते उसको महीनो बीत गए। आखिरकार एक दिन वह केदार धाम पहुच ही गया। केदारनाथ में मंदिर के द्वार 6 महीने खुलते है और 6 महीने बंद रहते है। वह उस समय पर पहुचा जब मन्दिर के द्वार बंद हो रहे थे। पंडित जी को उसने बताया वह बहुत दूर से महीनो की यात्रा करके आया है। पंडित जी से प्रार्थना की - कृपा कर के दरवाजे खोलकर प्रभु के दर्शन करवा दीजिये । लेकिन वहां का तो नियम है एक बार बंद तो बंद। नियम तो नियम होता है। वह बहुत रोया। बार-बार भगवन शिव को याद किया कि प्रभु बस एक बार दर्शन करा दो। वह प्रार्थना कर रहा था सभी से, लेकिन किसी ने भी नही सुनी।
 पंडित जी बोले अब यहाँ 6 महीने बाद आना, 6 महीने बाद यहा के दरवाजे खुलेंगे। यहाँ 6 महीने बर्फ और ढंड पड़ती है। और सभी जन वहा से चले गये। वह वही पर रोता रहा। रोते-रोते रात होने लगी चारो तरफ अँधेरा हो गया। लेकिन उसे विस्वास था अपने शिव पर कि वो जरुर कृपा करेगे। उसे बहुत भुख और प्यास भी लग रही थी। उसने किसी की आने की आहट सुनी। देखा एक सन्यासी बाबा उसकी ओर आ रहा है। वह सन्यासी बाबा उस के पास आया और पास में बैठ गया। पूछा - बेटा कहाँ से आये हो ? उस ने सारा हाल सुना दिया और बोला मेरा आना यहाँ पर व्यर्थ हो गया बाबा जी। बाबा जी ने उसे समझाया और खाना भी दिया। और फिर बहुत देर तक बाबा उससे बाते करते रहे। बाबा जी को उस पर दया आ गयी। वह बोले, बेटा मुझे लगता है, सुबह मन्दिर जरुर खुलेगा। तुम दर्शन जरुर करोगे।
 बातों-बातों में इस भक्त को ना जाने कब नींद आ गयी। सूर्य के मद्धिम प्रकाश के साथ भक्त की आँख खुली। उसने इधर उधर बाबा को देखा, किन्तु वह कहीं नहीं थे । इससे पहले कि वह कुछ समझ पाता उसने देखा पंडित जी आ रहे है अपनी पूरी मंडली के साथ। उस ने पंडित को प्रणाम किया और बोला - कल आप ने तो कहा था मन्दिर 6 महीने बाद खुलेगा ? और इस बीच कोई नहीं आएगा यहाँ, लेकिन आप तो सुबह ही आ गये। पंडित जी ने उसे गौर से देखा, पहचानने की कोशिश की और पुछा - तुम वही हो जो मंदिर का द्वार बंद होने पर आये थे ? जो मुझे मिले थे। 6 महीने होते ही वापस आ गए ! उस आदमी ने आश्चर्य से कहा - नही, मैं कहीं नहीं गया। कल ही तो आप मिले थे, रात में मैं यहीं सो गया था। मैं कहीं नहीं गया। पंडित जी के आश्चर्य का ठिकाना नहीं था।

उन्होंने कहा - लेकिन मैं तो 6 महीने पहले मंदिर बन्द करके गया था और आज 6 महीने बाद आया हूँ। तुम छः महीने तक यहाँ पर जिन्दा कैसे रह सकते हो ? पंडित जी और सारी मंडली हैरान थी। इतनी सर्दी में एक अकेला व्यक्ति कैसे छः महीने तक जिन्दा रह सकता है। तब उस भक्त ने उनको सन्यासी बाबा के मिलने और उसके साथ की गयी सारी बाते बता दी। कि एक सन्यासी आया था - लम्बा था, बढ़ी-बढ़ी जटाये, एक हाथ में त्रिशुल और एक हाथ में डमरू लिए, मृग-शाला पहने हुआ था। पंडित जी और सब लोग उसके चरणों में गिर गये। बोले, हमने तो जिंदगी लगा दी किन्तु प्रभु के दर्शन ना पा सके, सच्चे भक्त तो तुम हो। तुमने तो साक्षात भगवान शिव के दर्शन किये है। उन्होंने ही अपनी योग-माया से तुम्हारे 6 महीने को एक रात में परिवर्तित कर दिया। काल-खंड को छोटा कर दिया। यह सब तुम्हारे पवित्र मन, तुम्हारी श्रद्वा और विश्वास के कारण ही हुआ है। हम आपकी भक्ति को प्रणाम

हर हर महादेव.....🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻

अपनी कमजोरी को स्वीकारो

आप कितने Dedicated हैं अपने नेटवर्क व्यापार के प्रति....

अगर आप Dedicated हो तो फिर तो आप रोजाना प्लान पर प्लान शो करके लोगों को अपनी टीम का हिस्सा बना रहे होंगे...

अगर आप Dedicated हैं तो आप अपने हर महीने के लक्ष्यों को जरूर प्राप्त कर रहे होंगे...

अगर आप Dedicated हैं तो जरूर आपको यह पता होगा कि पूरे महीने में आप किन किन जगहों पर मिटिंग करने जा रहे होंगे...

अगर आप Dedicated हैं तो मतलब आप जरूर सफल लोगों के बीच पहुंच चुके हो...

अगर ऐसा है तो बहुत अच्छा।। और अगर ऐसा नही है तो इसका मतलब आपका Dedication कमजोर है।। अभी आपको सिस्टम पर विश्वास नही हो पा रहा है...

आपको अपने सिवा सभी लोग गलत नज़र आ रहे हैं। अपलाइन से लेकर कंपनी तक सब आपकी नजर में गलत हैं।। इसलिये आपका मन आपका साथ नही दे रहा...

किसी नियम को मानना तो आपके लिये बहुत मुश्किल है क्योंकि आप बेहद महत्वपूर्ण इंसान हैं और आप पर भला कोई भी नियम कैसे काम कर सकता है...

वैसे एक बात बताती हूँ कि अगर आप मानते हैं कि आप Dedicated हैं तो फिर किसी को बताइये मत आपके कर्मों से दुनिया अपने आप ही जान जायेगी।। वरना भला किस किसको आप बताते फिरोगे कि आप dedicated तो हैं परंतु सफल नही...

अगर सफलता आपसे अभी कोसों दूर है तो अपने Dedication की सही मात्रा को जाँचिए।। क्योंकि जहां Dedication मौजूद है वहां अहम मौजूद नही होता...

हो सकता है कि आपका अहम इतना विशाल है कि आप किसी बात या नियम को अब नही मानेंगे और जो रोजाना करने वाले काम हैं उनको भी नही करेंगे।। लेकिन ऐसा करके क्या होने वाला है...

नेटवर्किंग के अपने नियम है और कंपनी की अपनी रणनीति।। इनको तो आपको अपनाना हि पडेग़ा

सुनने की आदत डालो, उन बातों को जो आपका अपलाइन आपकी तरक्की के लिये बोलता है।। वरना कोई और नही है जो इस व्यापार में आपको आपकी खामियां बताये और उनमें सुधार करवाएं...

आपके सामने दो ही रास्ते हैं या तो आप अपनी मर्जी से चलो या फिर आप किसी की मान लो...

अपनी मर्जी पर चलकर अगर आप सफल हो तो फिर किसी की ना मानो।। वरना किसी गुरु को जरूर ढूंढ लो जिसकी आप मानो....

नमः नारायण

coin पर जल्द होगा सरकार का शिकंजा

तेजी से बढ़ते हुए बिटकॉइन के रेट को देखते हुए रोज़ाना एक से एक नया कॉइन  मार्किट में ये उद्धरण  देते  हुए आ रहे है, यदि आपने दो साल पहले  बिटकॉइन खरिद लिया होता तो ये हो जाता वो हो जाता  - इसमें इतना रेट बढ़ गया होता

और अगर आपने बिटकॉइन न भी ख़रीदा हो तो ये वाला कॉइन ले लो,

आपको बतादे की भारत में कोई भी कॉइन की मान्यता नही है और बिटकॉइन समेत सारे कॉइन पर शिकंजा कसने कि सरकार की तैयारियां शुरू हो चुकी है

इस न्यूज़ को जरूर देखें -
https://youtu.be/1WSw56cK_Wk

आपको भी यदि रोज़ एक नए कॉइन कि जानकारी दि जा रही है, तो लालच में आके उनसे न फसे

सारे exchange भी पैसा लेके कॉइन listed करवाते है, इनमे से किसी भी exchange को भी सरकारी मान्यता नहि दि  गई है

Flipkart 2

FaceBook

.